रविवार, 1 मई 2016

मेहनत और किस्मत (Hard Work & Luck)





हममें से बहुत लोग ऐसे होते है जो अक्सर अपने Free time में दोस्तों (या अपने बड़ो के साथ भी) के साथ इकट्ठे बैठकर बातें किया करते है। इनमें से कई लोग हसीं-मज़ाक की बातें करते है ,कई लोग इधर-उधर की चुगलखोरी और कुछ लोग ऐसे भी होते है जो इन बातों से दूर ज्ञान की बातें करते या सुनते है।


ऐसी ही एक बार कि बात है कुछ लोग बैठे हुए थे ,उनमे से कुछ युवा और कुछ वृद्ध थे। अक्सर वो ज्ञान की बातों पर चर्चा किया करते थे।


एक दिन उनमे से एक युवक दूसरे लोगो से पूछता है कि "मेहनत और भाग्य में से क्या बड़ा है जिससे आदमी ऊंचा उठता है।"


युवक की बात सुनकर अन्य युवक भी थोड़ा उलझन में फस गए कि इसका क्या उत्तर हो सकता है। ऐसी बातें उनके दिमाग में भी आती तो बहुत थी कि लोग मेहनत से ऊँचे उठते है या भाग्य से ,पर सभी confuse थे और किसी भी युवक के पास इसका उत्तर न था।


पर उस युवक की बात सुनकर एक वृद्ध थोड़ा-सा मुस्कराते हुए बोले कि "बहुत ही अच्छा सवाल पूछा तुमने।" वह कहने लगे कि "अक्सर लोग इसी उलझन में फस जाते है और कहते है कि मैं मेहनत तो बहुत करता हूँ पर उसका फल नहीं मुझे  मिलता। "


सभी युवक  वृद्ध की बात ध्यान से सुन रहे थे।


वृद्ध आगे कहने लगे ,"तो चलो मैं तुम्हे यह बात एक छोटा-सी example देकर समझाता हूँ। मान लो कि तुम्हारा किसी bank में locker है और locker की एक चाबी(key)  तुम्हारे पास होती है और एक bank वालो के पास। Locker तभी खुलेगा जब दोनों चाबियां (keys) locker को लगेंगी।"


वह आगे  कहने लगे ,"अब ऐसे ही तुम्हारी मेहनत और किस्मत है। जो चाबी तुम्हारे पास है वह तुम्हारी मेहनत है और जो चाबी bank के पास यानि कि जो चाबी भगवान के पास है वह तुम्हारी किस्मत। जब दोनों चाबियां लगेंगी तभी तुम ऊँचे मुकाम हासिल कर सकते हो। पर इसमें थोड़ा धीरज रखना पड़ता है क्यूंकि भगवान अक्सर लोगो की परीक्षा लिया किया करते है और लोगो के विश्वास को परखते है की लोग उनपर कितना विश्वास करते है। कही ऐसा न हो कि भगवान अपनी वाली चाबी तुम्हारे locker में लगाने लगे और तुम सोचो कि भगवान मेरा साथ ही नहीं दे रहा और अपनी मेहनत वाली चाबी लगाना बंद कर दो। इसलिए हमेशा मेहनत करते रहो और भगवान पर भी भरोसा रखो , मेहनत करोगे तो किस्मत भी साथ देगी अगर मेहनत नहीं करोगे तो अकेली किस्मत कुछ भी नहीं कर सकती ,क्यूंकि किस्मत उन्ही कि होती है जो असल में मेहनत करते है।

Share:

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें