मंगलवार, 15 नवंबर 2016

नोट बंद होने के फायदे और नुक्सान (Advantages And DisAdvantages Of Notes Banned In India In Hindi)

सभी लोग जानते ही है कि पूरे भारत में 8नवम्बर की रात से 500 और 1000 के नोट का चलन सरकार की तरफ से बंद कर दिया गया है । अब इसकी जगह पर नए 500 और 2000 के नोट आएंगे।



नोट बन्द होने के कारण इन्हें बदलने में कुछ परेशानी का सामना तो करना पड़ रहा है लेकिन अधिकतर लोग इस फैंसले से खुश है कि इससे corruption कम होगी या फिर कहे की ख़त्म भी हो सकती है।


इस समय सबसे अधिक tension तो सिर्फ उन्हें ही है जिनके पास काला धन है, अगर किसी गरीब के पास पैसे है भी तब भी वह भी इस फैंसले से खुश ही है ,क्योंकि वह जानता है कि यह उसके भले के लिए ही है।


तो आईये दोस्तों जानते है कि 500 and 1000 rupees banned होने के क्या-क्या फायदे और क्या-क्या नुक्सान है।

500 और 1000 के नोट बन्द होने के फायदे


आप सब इतना तो जानते ही है कि इससे corruption तो कम होगी लेकिन इससे होने वाले अन्य फायदे बहुत कम लोगो को मालूम है। दोस्तों आज उन्ही फायदों को आप सभी को GyanPunji पर विस्तार से बताया जाएगा-

काले धन की समाप्ति 




500 और 1000 के नोटों के बंद होने का सबसे बड़ा फायदा तो यह है कि काला धन समाप्त हो जाएगा। एक बार अर्थ व्यवस्था को फर्क जरूर पड़ेगा लेकिन कुछ समय बाद सामान्य रूप से चलने लगेगी ।


गरीबों को फायदा


जैसा कि ऊपर लिखा कि कुछ समय बाद अर्थव्यवस्था सामान्य रूप से चलने लगेगी ,उस समय गरीब लोगों को फायदा होगा। जो भी Worker है, उन्हें भी अब cheque के द्वारा तनख्वाह मिलने लगेगी, जिससे उनकी कमाई भी स्पष्ट होगी और वह भी हमारे देश के revenue में योगदान कर सकेंगे और तो और उन्हें Bank से मिलने वाली सुविधाओं से भी लाभ प्राप्त होगा।



सबसे बड़ा गरीबों को फायदा यह होगा कि जैसे कई लोग उन्हें उनकी पूरी कमाई नहीं देते और गरीब लोग कुछ नहीं कह पाते तो अगर वह अब अपने Bank में पैसे लेंगे तो वह भी अपनी कमाई के प्रति जागरूक होंगे और अगर कोई उन्हें उनकी मेहनत से कम salary देता है तो वह Police Report भी कर सकते है। क्योंकि सरकार की तरफ से कुछ नियम बनाए गए है कि किस field की नोकरी में कम-से-कम कितनी सैलरी होगी। इसलिए क्योंकि अब उन्हें भुगतान cheque के द्वारा होगा तो वह आगे कार्यवाही करवा सकते है।

 

आतंकवाद कम होगा




जो आतंकवाद देश के अंदर है या बाहर भी है यानी कि जो आतंकी पहले भारतीय नोटों पर निर्भर थे, अब वह आतंकवाद कम होगा क्योंकि उन आतंकियों को भुगतान भारतीय मुद्रा के द्वारा किया जाता था ,जिससे अब उनके नोट सिर्फ एक कागज़ का टुकड़ा बनकर रह जाएंगे। क्योंकि वह लोग अपने नोट बदलवा नहीं पाएंगे और फिर वह सिर्फ एक कागज़ का टुकड़ा बनकर ही रह जाएंगे।







महंगाई कम होगी


भले ही कुछ समय के लिए नोटों की कमी के कारण या फिर कुछ अन्य कारणों के कारण अगर कुछ समय के लिए महंगाई बड़ भी जाती है तो भी कुछ समय बाद यह महंगाई कम होगी। इसका long term में benefit ही होगा।


प्लास्टिक मनी का चलन


नोट बन्द होने से एक अन्य फायदा यह है कि इससे Plastic Money का चलन अधिक होगा यानी कि Online Banking भी बड़ेगी । इसका मुख्य फायदा यह कि अगर Circulation में Cash कम रहेगा और बैंक के द्वारा अधिक-से-अधिक भुगतान होगा तो आगे से होने वाली काली कमाई बन्द होगी क्योंकि कोई भी किसी प्रकार से गलत काम नही करवा पायेगा।


यह भी पढ़े : कबीर जी के दोहे (Kabir Ji Ke Dohe)


रिश्वतखोरी में कमी या फिर पूरी से बंद


नोट बन्द होने से एक अन्य फायदा यह होगा कि जो भी उच्च पद नियुक्त अधिकारी रिश्वत लेते थे अब वह ऐसा नहीं कर पाएंगे। इसका मुख्य कारण है कि Cash में कमी आएगी और जो लोग रिश्वत लेते थे वह अब Cheque या फिर Bank Tranfer के द्वारा तो लूट नहीं पाएंगे, तो इस प्रकार रिश्वतखोरी में भी कमी आएगी या फिर पूर्ण रूप से समाप्त हो जायेगी।


ज़मीनों के भाव में कमी


यह भी एक सबसे बड़ा फायदा है जो लोग अपना घर तो लेना चाहते है लेकिन जमीन के भाव बहुत अधिक थे जिस कारण वह अपना घर नहीं खरीद पा रहे थे। लेकिन अब ऐसे लोगों के अच्छे दिन आ गए है क्योंकि अब जमीन के भावों में भी कमी आएगी। इसका मुख्य कारण काला धन ही है। पहले लोग काले धन के द्वारा Cash में अधिक भुगतान करते थे ,लेकिन अब वह लोग ऐसा नहीं कर पाएंगे। Cash Circulation कम होने की वजह से काली कमाई समाप्त होगी और जो अधिक मूल्य चुकाते थे अब वह ऐसा नहीं कर पाएंगे ,जिससे अब सारा भुगतान White Money के द्वारा ही होगा क्योंकि Cash Circulation कम होगा और जो लोग अधिक-से-अधिक भुगतान भी करने को आतुर रहते थे वह ऐसा नहीं पायेंगे ,इससे सीधा-सीधा फायदा उन्हें होगा जो लोग अपना घर खरीदना चाहते है और वो भी कम दाम में।


यह भी पढ़े : अक्ल बढ़ी या किस्मत (Akal Badi Ya Kismat)


शिक्षा सस्ती होगी


कुछ स्कूल जो आसानी से Admission नहीं देते और Admission देने के नाम पर Donation मांगते है अब वह ऐसा नहीं कर पाएंगे ,जिससे अब शिक्षा सस्ती होगी और सक्षम Students बढ़िया School Or Colleges में Admissions ले पाएंगे।


सोने के दामों में कमी


पहले लोग अपने Cash के द्वारा अधिक-से-अधिक सोना इकठ्ठा करते थे लेकिन अब ऐसा नहीं हो पाएगा जिससे सोने की Demand में कमी आएगी और Demand कम होने के कारण आने वाले समय में सोने के दाम (Price Of Gold) कम हो जाएंगे।


देश की तरक्की (Country's OverAll Progress)

 
जो लोग भी अपनी savings Cash के रूप में करते थे अब वह भी अपनी Savings को Bank में जमा करायेंगे, जिससे उनका यह पैसा अब देश के कार्यों में Invest हो सकेगा और इससे देश की तरक्की भी होगी।


ब्याज दर कम होगी (Interest Rates Will be Lower)


जो लोग भी अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए Bank से Loan लेते थे या फिर बैंक से loan लेना चाहते है अब उनके लिए फायदा है। अब ब्याज दरों में कमी आएगी क्योंकि लोगों का पैसा Invest होगा और उसी पैसे से बैंक लोन provide कराते है, तो अब उनके पास भरपूर मात्रा में पैसा होगा जिससे ब्याज दरे (Interest Rate) भी कम होंगी।


यह भी पढ़े : मेहनत और किस्मत (Hard Work & Luck)

नुक्सान 


नोटों के बन्द होने से कुछ नुक्सान भी है लेकिन वह short -term की हानियां है।  बाद में इससे सिर्फ लाभ-ही-लाभ होगा। सबसे अधिक नुक्सान इससे उन्ही को जो Tax Evasion करते है। यानी की जिनके पास काला-धन है। 

इससे सबसे अधिक नुक्सान बड़े व्यापारियों को होगा जो Proper Tax नहीं भरते और Return File करते समय गलत चीजे show करते है। कई बड़े-बड़े व्यापारियों का धंधा cash payment पर चलता है ,इसलिए कईयों के पैसे अब सिर्फ एक कागज़ बनकर रह जाएंगे। लेकिन इससे किसी गरीब को कोई नुक्सान नहीं।




गरीबों का क्या नुक्सान होगा ?







अगर हम Long-Term की बात करे तो किसी भी गरीब को कोई नुक्सान नहीं होगा। हम थोड़े दिनों में जिन-जिन  लोगों को नुक्सान होगा उसकी बात करते है -



किसी भी तरह का छोटा व्यापार जैसे कि - दूध वाला (Milk Man) , करियाना के सामान की दुकाने , लेखन-सामग्री (Stationery Shops) , मिठाई वाले (Sweet Shops) , अखबार वाले (Newspaper) आदि (Etc) ऐसी दुकानों को कुछ समय के लिए कुछ नुक्सान हो सकता है। क्योंकि इनकी sale अब कम होगी। लोगों के पास छुट्टे पैसे नहीं और नयी currency की कमी है इसलिए वह सब बहुत ही जरूरी चीजो पर अब खर्च करेंगे। उसके इलावा जिन भी चीजों पर खर्च करना है ,उन दुकानों के साथ उनकी उधारी भी बड़ सकती है क्योंकि new currency की अभी दिक्कत होगी। और अधिकतर ऐसी दूकान वालों के पास online payment के system नहीं है।

 


खैर अगर देश का भला हो रहा हो तो थोड़े समय के लिए कष्ट सहन किया जा सकता है ,वैसे भी महंगाई और corruption ने भी तो जीना दूबर करके रखा हुआ है। 



इसलिए नोट बन्द होने के फायदों को ही विस्तार से बताया गया है ताकि इससे मिलने वाले लाभ सभी को आसानी से समझ आ सके।


दोस्तों अगर आपको किसी भी जानकारी में कोई Confusion है तो आप comment करके पूछ सकते है अगर आप भी कुछ अन्य फायदे जानते है और उन्हें GyanPunji पर share करना चाहते है तो comment करके बता सकते है या फिर Contact Us Form भरकर हमे बता सकते है।



500 और 1000 के नोट बन्द होने के फायदों के बारे में विस्तार से जानकारी आपको कैसी लगी, comment करके जरूर बताएं ,अगर आपको इसमें कहीं पर भी कोई गलती या Confusion लगे तो भी हमें बता सकते है। अगर यह जानकारी आपको फायेदेमंद लगी और लगता है इससे अन्य लोगों को भी फायदा मिल सकता है तो अपने दोस्तों के साथ share करना न भूले।






Searchable Tags
Advantages And DisAdvantages Of  Notes Banned
Merits Of 500 and 1000 Notes banned in India In Hindi
demerits of note banned in India In Hindi
Note band hone se milne wale faayede
kya nuksaan hai note band hone se
kin kin logo ko nuksaan hoga note band hone se
kin kin logo ko faayeda hoga note band hone se
नोट बंद होने के नुक्सान 
 नोट बंद के लाभ 
Share:

14 टिप्‍पणियां:

  1. Bahut accha bataya aapne! sarkar ka accha kadam hai......lekin ek baat me batana chhata hu ki fayeda chahe kisi ko ho lekin aapko ya mujhe koi fayeda nahi hoga....aap kehte hain ki gareeb ko koi nuksan nahi hoga to reality yeh hai ki gareeb ke pass to kuch hota hi nahi hai to nuksan kis baat ka hoga.....baat karen ameer ki to sari economy unhi se chalti hai, unke paas ese CA hote hain jo kagaj ko bhi note bana sakte hain....to old note ko naye me badalna koi badi baat nahi....ab baat rahi middle class ki to wo kabhi aage nahi bad payega kyoki aage badega to sare rules us par hi lagenge.....aapne likha ki cheejen sasti ho jayengi....usse bhi nuksan hai kyoki sarkaar gvrnment sarvent ko badi hui mehgai ke hisab se pese de rahi hai, jese hi cheejen sasti hongi, demand bahut jyada ho jayegi aur suppy utni nahi ho payegi....result Rs. fir se badane padenge....aur logon ki payment km kar nahi sakte....aur bhi baten hain mere pass likhne ko lekin yahan shayad nahi likh paunga......

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Amul ji aapne bahut badhiya vichaar hmare sath share kiye.

      Aapko aur humko na adhik fayeda hoga aur na hi adhik nuksan, mila jula asar rhega. Lekin isse Gareebo ko ek main fayeda mil skta hai. Bharat me kuch states hai jaha par majduro ko proper labour nahi pay hoti, to agar sarkar ab unki pay ke liye bhi rule bna de ki unki pay ab Bank ke dwara hi milegi to unko fayeda mil skta hai,kyki isse veh kuch jagruk honge aur unhe unki minimum wage jrur milegi. khair iska Note bnd hone se to koi direct relation to nahi lekin ab logo ke pass Notes ki dikkat hai to unhe bhi kuch preshani aati hogi paise lene me, to agar Bank aacount unka bn jaye to unke liye badhiya rhega.

      Aur Ameer logo ki jo baat hai CA jo bhi kaam krte hai, ya fir jis prakar krte hai to vo kaam najarandaaj kiye hai taki logo ko isse milne wale fayedo ko pta lg ske.

      Filhaal jo sbse dikkat aayegi veh hai medium businessman ko aur jo uneducated hai, kyki medium businessman ka sara business thap ho jayega aur ho bhi gya hai kyki unka kaam cash payment par adhik hota hai. Khair sarkar bhi sahi hai kyki vo tax nai proper pay krte. aur main dikkat ab unhe Account Books maintain krne ki aayegi kyki har ek apne hisab se apne accounts maintain krta tha. Uneducated ki sbse bari dikkat yeh ki veh prehshan honge ki unke paise ab bekar ho gye....unhe proper koi smjhaane wala nai jo kuch vishesh states ke vishesh villages me rehte hai yani ki jaha par koi bhi proper educated nahi hai.

      isse abhi import/export bhi vigrenge , par time ke sath sb theek ho jane ki umeed hai.

      Aur jaisa apne Servant ki baat ki to is bare main abhi proper nai kuch keh skta shyd jo aapne kaha veh bilkul sahi ho par as a macro-economics baki kaaran bhi isse shyd nipt le uspar abhi mai proper keh nai skta kuch.

      Lekin abhi short term me nuksaan adhik hoga fayeda kam, par 2018-19 me umeed hai shyd sb thik hona shuru ho jaye.

      Ab hume rule svikaar krna to padega hi, abhi nuksaan bhale hi hai lekin jab money circulation me aa jayegi aur log Bank ke dwara bhugtaan krenge to investment adhik hogi jisse arthvyavasyha majboot hogi ,par savings account walo ko interest km mil skta hai kyki bajaar me investment pehle hi badh gyi hogi.

      kyi nuksaandayak points hai par Future ke according ke main benefits ko liya gya hai taki vo iske benefits ko bhi smjh ske.

      aapke vichaaro se kaafi kuch seekhne ko mila, dhanyawaad aapka. Aise hi aap hmare sath apne vichaar share krte rhe.

      हटाएं
    2. Aapka bhi bahut Dhanyavad ki aapne meri baat ko samjha.....

      हटाएं
  2. बहुत ही अच्छी व्याख्या है नोट बंद होने पर .... Really nice article, @Nikhil Jain Ji!! :) :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. Thanks for sharing this because I don't know about how much benefit we will get.

    उत्तर देंहटाएं
  4. Aap ne kaha ki jo workers hai unhe pay check me milegi to aisa Kyu hoga kya unhe pay cash me nahi MIL sakti mtlab unhe pay check me Milne ki vaja kya hai

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ऊपर जितने भी फायेदे लिखे है सब directly या indirectly इस पर फर्क डालते है .
      मान लीजिये एक मध्यम दर्जे का व्यापार है ,उस में 15 लोग full time काम करते है और व्यापार भी काफी अच्छा है लेकिन व्यापारी सिर्फ 6-7 लोग ही show करता है ,क्यूंकि salary cash में है यानी जिसे हम कच्चे में व्यापर करना बोलते है . ऐसे में व्यापारी क्या करेगा कि वह अपनी बिक्री भी कम दिखायेगा और बिल भी कम काटेगा . यानी कि अगर वह 1 करोड़ की sale कर रहा है तो 40-50 लाख या इससे भी कम show करेगा और बाकि के 60-50 लाख पर उसे टैक्स नहीं भरना पड़ेगा . इसे टैक्स चोरी कहते है और इसी को ही काला-धन भी कहते ,लेकिन कुछ दुसरे तरीको की कमाई को भी काला धन कहा जाता है .

      अब बात आती है कि ज्यादा workers क्यों नहीं show करेगा ? सरकार हर category के व्यापार पर नजर रखती है ,अगर वह हर एक को cheque से भुगतान करेगा तो सभी workers show हो जायेंगे और अगर वह फिर भी उतनी ही income show करेगा तो इससे सरकार को अंदाजा हो जाता है कि कुछ तो छुपाया जा रहा है और फिर income tax वाले अपने आप देख लेते है .

      इसके इलावा EPF वगरेह के भी rules है कि अगर आपके पास इतने से अधिक (जितनी भी लिमिट होती है) लोग काम करते है तो बहुत कुछ legal details रखनी/करनी पड़ती है . यह सब employees के ही फायेदे के लिए है जो उन्हें नहीं मिल पाता .

      जिसे salary मिली है अगर वह cash में है तो इससे सरकार को जानकारी नहीं रहेगी ,लेकिन अगर वह cheque के द्वारा है तो सरकार को proper जानकारी रहती है कि कितनी salary गयी ,टैक्स सही तरीके से भरा या नहीं . सही income/salary पता होने से policies बनाने में सहायता मिलती है और जितनी सही information सरकार को होगी उतना ही policies के सफल होने के chances बढ़ते है .

      अगर हम short में कहे तो इससे टैक्स चोरी के chances बहुत ही कम हो जाते है ,चाहे employee हो या फिर employer . लेकिन cash भुगतान का कोई पक्का सबूत नहीं रहता कि जो जानकारी दी है वह सही है या गलत .

      इसलिए cheque या online transfer को बढ़ावा दिया जा रहा है . थोड़ा और अधिक जानने के लिए एक बार comments भी जरुर पढ़ले .

      ऐसी ही अन्य जानकारी और हिंदी में कहानिया/विचार पढ़ते रहने के लिए GyanPunji.com blog से जुड़े रहे .

      हटाएं
  5. Thank you so much for such great information..... :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. उत्तर
    1. कालाबाज़ारी means या तो कच्चे का व्यापार, जिसमे पूरी income न दिखाई जाये या फिर अधिक दामो पर बेचना, तो इसी की example के लिए आप एक बार ऊपर वाला कमेंट पढ़ले जो 26 जनवरी को लिखा है। उससे आपको समझ आ जायेगा अगर फिर भी कोई प्रश्न हो तो आप पूछ सकते है।

      हटाएं