मंगलवार, 22 नवंबर 2016

असली सौंदर्य (Real Beauty)






मनुष्य का असल सौंदर्य क्या है? क्या है जो मनुष्य को शोभायमान करता है? कुछ लोग कहेंगे कि उनकी चेहरे की सुंदरता ही उनकी असल शोभा है। कुछ कहेंगे कि उनके कपड़ो से उनकी शोभा है। और कुछ के लिए उनका धन ही उनकी शोभा है ,क्योंकि वह अपने धन के कारण जाने-जाते है।



पर क्या यह सब कुछ असली शोभा है या फिर सिर्फ दिखावे के लिए ही है? क्योंकि यह शोभा तो नाशवान है।



अगर आज किसी के पास अपनी यौवनावस्था में सुन्दर चेहरा है ,तो कल को बुढ़ापा भी आएगा ही। इसके इलावा भी जब दुनिया छोड़कर जानी है, चेहरे चेहरे का तो कोई मोल रहना नहीं, वह तो मिट्टी में ही मिल जायेगा, जो भी कुछ मिट्टी से बना है, मिट्टी में ही मिल जाना है।


यह भी पढ़े : मृत्यु सत्य है (Death Is True)


अगर कोई कहे कि उनका पैसा ही उनकी असल शोभा है, तो पैसा तो ऊपर कोई भी लेकर जा नहीं सकता और न ही पैसा शमशान जाने से बचा सकता है। तो फिर पैसा भी न हुआ असल शोभा।



अब बात कपड़ो की करते है। वैसे कपड़ो की बात करने की जरूरत तो लगती नहीं अब? क्योंकि अब आप कपड़ों के बारे में भी समझ ही गये होंगे। क्या अच्छे कपड़े डालने से किसी का दिल अच्छा हो सकता? नहीं न। तो फिर कपड़े भी असल शोभा नहीं है।


यह भी पढ़े : क्या आप जागृत है ? (Kya Aap Jag Rahe Hai ?)



क्योंकि यह सब तो भौतिक चीजे है और इन्होंने यही पर रह जाना है। लेकिन क्या हम भौतिक शोभा को हम अपनी असल शोभा बना सकते है क्या? बना तो सकते है असल शोभा । लेकिन पहले यह जान लेना चाहिए कि मनुष्य की असल शोभा आखिर क्या है?




मनुष्य की असल शोभा तो उसका मैत्री स्वभाव, उसके सुविचार, उसका सच्चा ज्ञान और उसकी दानशीलता है।



लोग कहते है कि सब कुछ यही पर रह जाएगा। लेकिन यह पूर्ण रूप से सत्य नहीं है। काफी कुछ कमाया गया हमारा हमारे साथ भी जाएगा। हमारे स्वभाव हमारे साथ ऊपर जाएंगे । हमारी दानशीलता हमारे साथ परलोक में भी हमारे साथ ही रहेगी। लेकिन क्या हमारा ज्ञान हमारे साथ रहेगा? जी हाँ, हमारा ज्ञान भी हमारे साथ परलोक में जाएगा और हमारे अगले जन्मों में भी हमारे साथ रहता है। बहुत से लोग यह बात नहीं मानेंगे कि ज्ञान भी हमारे साथ अगले जन्मों तक रहेगा। लेकिन यह बात पूर्णतः सच है कि हमारा ज्ञान हमारे साथ रहेगा। लेकिन भौतिक ज्ञान नहीं बल्कि अलौकिक ज्ञान। जो ज्ञान भी आत्मा के द्वारा गृहण किया जाता है, वह हमारे साथ हमारे अगले जन्मों में भी रहेगा। अगर आप सोचे कि आपकी tricks वगैरह का ज्ञान आपके साथ रहेगा ,तो ऐसा नहीं है। सच्चा ज्ञान हमारा ,  हर जन्म में हमारे साथ रहता है। हमारा सच्चा ज्ञान वह है जो ध्यान के द्वारा , ईश्वर से प्रेम के द्वारा अर्जित किया जाता है। ऐसा ज्ञान ही सच्चा ज्ञान है और यह ज्ञान हर जन्म में हमारे साथ रहता है।


सच्चे ज्ञान की प्राप्ति के बारे में जानने के लिए click करे


यह बात तो हुयी सच्चे ज्ञान की। अब क्या हम परलोक में अपना सौंदर्य और अपना धन भी लेकर जा सकते है या नहीं ? तो इसका उत्तर है - हाँ। हमारा धन और सौंदर्य भी अगले जन्मों में  हमारे रहता है। लेकिन हम अपना धन  सुंदरता अगले जन्मो में भी कैसे लेकर जा सकते है ? तो अब आपको धन और सुंदरता को हमेशा अपने साथ रखने के तरीके का पता लगेगा।






आपके पास जितना भी धन है ,उसका यथासंभव उपयोग करना आना चाहिए। धन का व्यय सिर्फ भौतिकता के संसाधनों में ही नहीं करना चाहिए बल्कि दान आदि भी करते रहना चाहिए। जितना अधिक दान किया जाएगा वह सारा हमारे अगले जन्मों में किसी-न-किसी रूप में हमे मिल ही जाएगा। दान करते समय कभी नहीं सोचना चाहिए कि मैंने उस व्यक्ति की मदद की , उसे मेरी वजह से फायदा पहुंचा। अहं का भाव नहीं मन में आने देना। इस प्रकार भी व्यक्ति अगले जन्मों में भी अपना धन लेकर जा सकता है।



यह बातें तो हो गयी, अब बात आती है कि हम सौंदर्य भी अगले जन्म में कैसे प्राप्त कर सकते है ? कुछ लोग सोचेंगे कि सुंदरता तो अगले जन्म में जा ही नहीं सकती है। लेकिन यह सोच गलत है। हमारी सुंदरता भी अगले जन्मों में हमारे साथ जा सकती है। सुंदरता को भी अगले जन्मों में प्राप्त करने का तरीका है। सबसे पहले तो हमको किसी की भी निंदा करनी छोड़नी पड़ेगी। और अगर किसी  को इस जन्म में सुन्दर चेहरा मिला है ,तो इसका कभी भी मान न करे कि मैं तो सुन्दर हूँ। क्योंकि यह सुन्दर रूप भी पिछले अच्छे कर्मों के कारण ही मिला है। और सबसे महत्वपूर्ण बात कि किसी के रूप का भी कभी मज़ाक न उड़ाए। अगर कोई भी ऐसा करने में कामयाब हो जाता है तो यकीनन वह अगले जन्म में सुन्दर रूप ही पायेगा।


यह भी पढ़े : एक चुटकला जो जिंदगी जीना सीखा दे (One Inspirational Joke)


तो दोस्तों अगर आप ऐसा सब कुछ करने में कामयाब हो जाते है ,तो आपको यकीनन अगले जन्मों में भी बहुत अच्छा जीवन व्यतीत करेंगे।  लेकिन कुछ लोग अभी भी सोचेंगे कि ऐसा कुछ भी नहीं होता , यह तो सिर्फ कहने की बातें है। तो इसके बारे में भी वह एक बार विचार करले कि ऐसा होता है या फिर नहीं ?



चलो अब ऐसे लोग दो बातें  सोचे,जो कहते है कि ऐसा कुछ नहीं होता यह सिर्फ कहने की ही बातें है -



पहली  उनके लिए जो कहते है कि अगला-पिछला जीवन कुछ भी नहीं होता। खाओ-पीयो और मौज करो। जो ऐसा सोचते है ,उनमे एक बात common होती है ,वह ऐसी बातें तो कह देते है लेकिन यह भी मानते है कि उन्हें कम मेहनत में ही काफी कुछ मिल जाता है , तो उनके साथ भी अच्छा सिर्फ इसलिए होता है क्योंकि उन्होंने पिछले जन्मों में अच्छे काम किये थे। एक बात याद रखिये किसान खेत में जैसा बीज बोता है और जिस प्रकार से उसकी देखभाल करता है ,उसे अंत में वैसा ही फल मिलता है। तो कर्मों का फल भी उसी जन्म में नहीं बल्कि अगले जन्मों में भोगा जाता है। ऐसे लोगों ने पिछले जन्मों में अच्छे काम किये थे ,इसलिए इस जन्म में उनकी किस्मत अच्छी है।
 

यह भी पढ़े : राजमहल या फिर जेल (Kingdom Or Prison)


और दूसरी तरह के वह लोग होते है जो कहते है कि हम कितनी भी मेहनत क्यों न कर ले ,हमे सफलता ही नहीं मिलती। तो इसका भी पहले ही बता दिया कि आप पिछले जन्मों में  किये कर्म भोग रहे है। अगर मेहनत से सफलता  मिलती होती तो मजदूर तो फिर सबसे मेहनती इंसान है ,उन्हें न सफलता मिल गयी होती। इस बात का यह मतलब बिलकुल न निकाले कि मेहनत करनी ही नहीं चाहिए। क्योंकि कर्म करेंगे तभी तो फल मिलेगा ।अगर कर्म ही नहीं करेंगे फिर तो अगला तो बाद की बात ,यही जन्म बद से बदतर हो जाएगा। जिन लोगों की किस्मत में मेहनत करने से सफलता लिखी होती है ,उन्हें मेहनत के द्वारा ही मिलती है। ऐसे कई लोगों के उदाहरण है जो बहुत अधिक मेहनत करने के बाद ही सफल हुए और ऐसे भी व्यक्ति है जो बहुत कम मेहनत में ही सफलता प्राप्त कर लेते है ,इसलिए कभी भी मेहनत करना नहीं छोड़ना चाहिए। क्योंकि मेहनत करना तो इंसान का कर्तव्य है ,सिर्फ मेहनत ही नहीं बल्कि बहुत ज्यादा मेहनत करना इंसान का कर्तव्य है ,बाकी काम तो जानवर भी कर लेते है।



तो दोस्तों अब आप जान गए कि अगले जन्म में भी कोई कैसे अपना धन लेकर जा सकता है। कैसे अगले जन्म में भी सुंदरता प्राप्त की जा सकती है। किस प्रकार जीवन अच्छे ढंग से व्यतीत किया जा सकता है।


यह भी पढ़े : कैसे जाने शाकाहारी और मांसाहारी आहार के बारे में (How To Know About Veg Or Non-Veg Food)


अब बात आती है असली सौंदर्य की , दूसरों की मेनहत में लगाया गया धन ही असली धनी की सुंदरता है। किसी की मदद करने के लिए किया गया काम ही असली काम है ,इसी से किसी इंसान की शोभा का विकास होता है। वही रूप सबसे अधिक सुन्दर है ,जिसमे सभी जीवों के प्रति दया के भाव हो। यही व्यक्ति की वास्तविक सुंदरता है ,जो सिर्फ इस जन्म में ही नहीं अपितु हर जन्म में मनुष्य का साथ देगी। ऐसी सुंदरता का कभी भी नाश नहीं होता। यह हर जन्म आपके साथ ही रहेगी और यही किसी भी व्यक्ति की असल कमाई और किसी भी व्यक्ति की असल शोभा है। जिस व्यक्ति में ऐसे गुण हो ,वह हर जगह इज्जत ही प्राप्त करता है।



तो दोस्तों आपको यह article असली सौंदर्य (Real Beauty) जोकि कर्मों पर आधारित है ,कैसा लगा comment करके जरूर बताये। अगर किसी को भी इस article में लिखी किसी भी बात पर संदेह हो या कोई confusion हो तो वह बेजिझक पूछ सकता है।


FaceBook Page Like करना न भूले



 
Share:

4 टिप्‍पणियां:

  1. Bahut sahi likha aapne ki hamare sacche karma hi hamare sath jayenge.....aapne jo pese aur beauty ko sath jane ko explain kiya hai veh bahut accha laga aur veh bastav me sahi hai.....me aapse sehmat hu.....Dhanyavad!

    उत्तर देंहटाएं