बुधवार, 25 जनवरी 2017

क्या फायदा (What's The Benefit) ?

दोस्तों , आप ,मैं या फिर कोई भी मनुष्य ,धन-दौलत बनाने में ही लगा रहता है। वैसे धन-दौलत होना तो अच्छी बात है और अगर हमारे पास पैसे होंगे तभी हम आसानी से जीवन-यापन कर सकते है ,लेकिन अगर कोई हर समय ही धन-दौलत कमाने के पीछे लगा रहता हो और हमेशा यही सोचता रहे कि अमीर कैसे बना जा सकता (How to become millionare)? तो इसका क्या फायदा ?



मानता हूँ कि जिंदगी में कुछ भी पाने के लिए धन-दौलत का होना बहुत जरूरी है ,लेकिन आखिर हर समय पैसे के पीछे भागने से क्या होगा ? आज इसी पर गहराई से विचार करते है कि हर समय पैसे के बारे में ही सोचकर या हर समय आर्थिक काम में ही व्यस्त रहने से हमे क्या लाभ और क्या नुक्सान हो सकता है ? हम पैसे से क्या कुछ खरीद सकते है और क्या नहीं ?


पैसो से हम क्या-क्या प्राप्त कर सकते है (What We Can Buy With Money) ?




पहले हम बात करते है कि हम पैसे से क्या कुछ हासिल कर सकते है -


    पैसे से हर एक भौतिक वस्तु प्राप्त की जा सकती है ,चाहे खाने-पीने की हो या फिर ऐशो-आराम की।

        आपने अक्सर लोगो से सुना होगा कि पैसे से सब कुछ तो खरीदा जा सकता है लेकिन खुशिया नहीं ,लेकिन अगर इसको भी  गहराई से ले तो खुशियों के लिए भी पैसा जरूरी ही है। अगर किसी को घूमने से ख़ुशी मिलती है तो घूमने के लिए भी पैसो की जरूरत है।



        अगर किसी की ख़ुशी खेलने- कूदने में है तो उसे भी खेल-कूद करने के लिए पैसे तो चाहिए ही ,जिससे वह खेल-कूद का सामान खरीद सके या खाने-पीने के  लिए भी सामान चाहिए ही।



        तो दोस्तों जिसकी जो भी है ,चाहे आप हो या चाहे मैं हर एक वस्तु को पाने के लिए धन तो चाहिए ही।  कई लोगों को दान करने से ख़ुशी मिलती है या  दूसरों की मदद करने से ख़ुशी मिलती है ,तो ऐसा करने के लिए भी उनके पास रूपये तो होने ही चाहिए।

        दान का असली महत्व पर हिंदी में कहानी पढ़िए








        तो इसलिए , असल  ख़ुशी प्राप्त के लिए भी रुपयों की आवश्यकता होती ही है। अगर हमारे पास धन-दौलत होगी तभी हम कोई ख़ुशी प्राप्त कर सकते है।



        लेकिन हर एक की ख़ुशी उसके विचारो और उसकी इच्छाओं पर ही निर्भर करती है।



        दोस्तों आपने यह तो जान लिए कि पैसे से ही सब कुछ प्राप्त किया जा सकता है ,अब यह जानते है कि पैसो से क्या नहीं प्राप्त कर सकते।


        पैसो से क्या नहीं हासिल कर सकते (What We Can't Buy With Money) ?




        अब आते है इस दुनिया की असलियत पर। कुछ लोग घमंड के नशे में चूर हुए रहते है कि उनके पास काफी धन-दौलत है ,वह सब कुछ खरीद सकते है और जो उनसे नीचे के दर्जे के होते है उनसे दुर्व्यवहार करते है ,लेकिन यह आगे खासतौर से ऐसे ही अमीर लोगो के लिए है जिनके अंदर घमंड पैदा हो जाता है कि वह सब कुछ खरीद सकते है ,अब आगे पढ़िए कि पैसो से क्या नहीं कर सकते। 



        • कोई भी अमीर-से-अमीर व्यक्ति paise खर्च के दवाईया तो खरीद सकता है लेकिन वह कभी भी सेहत नहीं खरीद सकता। 



        • कोई भी धनी व्यक्ति धन से अपनी surgeries तो करा सकता है लेकिन उसमे कुदरती सुंदरता और कुदरती मजबूती नहीं ला सकता। 



        • धन से हज़ारो पुस्तकें खरीद सकते है ,अपने पास उच्च-से-उच्च शिक्षित consultants रख सकते है लेकिन ज्ञान नहीं खरीद सकते ,सही-गलत की समझ नहीं खरीद सकते। 



        • जैसे कि ऊपर लिखा अगर किसी की ख़ुशी घूमने-फिरने में है तो वह धन से यह पूरी तो कर सकता है लेकिन घूमने-फिरने या खेलने-कूदने के लिए जो सेहत चाहिए वह कोई नहीं खरीद सकता। 



        • धन से ऐशो-आराम की वस्तुए तो खरीद सकते है लेकिन मन और दिमाग की शान्ति कोई नहीं खरीद सकता। 

        • पैसो द्वारा भगवान की मूर्ति तो खरीदी जा सकती है लेकिन भक्ति एवं श्रद्धा नहीं खरीदी जा सकती। 



        • धन से मित्र-रिश्तेदार बनाये जा सकते है लेकिन सच्चे मित्र और सच्चे मददगार नहीं।



        • जिसके पास पैसे है वह अपने लिए security gaurd रख सकता है ,care taker रख सकता है ,लेकिन सच्चा साथी ,दिल से मदद करने वाला कभी नहीं खरीद सकता।



        तो दोस्तों ,पैसो से बहुत कुछ तो प्राप्त किया जा सकता है और बहुत-सी खुशिया भी प्राप्त की जा सकती है लेकिन उन खुशियों के सही इस्तेमाल के लिए सेहत या सच्चा साथी नहीं प्राप्त किया जा सकता।



        यहाँ पर यह बात बिलकुल नकारता हूँ , जो कहते है कि पैसो से सिर्फ भौतिक सुख प्राप्त कर सकते है लेकिन आंतरिक सुख नहीं। यह काफी हद तक गलत है(कुछ इंसानों पर ही यह बात पूर्ण रूप से लागू होती है)। जैसा कि ऊपर लिखा ही है ,अगर किसी को दान करने से ख़ुशी मिलती है तो उसे  भी कुछ तो रूपये चाहिए ही दूसरों की मदद करने के लिए और उन्हीं रुपयों के व्यय से दानी को दान करने में ख़ुशी मिलती है।


        आखिर इस Post का मकसद क्या है ?









        दोस्तों ,इस Post में दोनों तरफ ही बातें हो गयी ,शायद थोड़ी confusion हो रही हो कि आखिर यह Post किस लिए ? क्योंकि पैसे से हम क्या कुछ प्राप्त कर सकते है यह भी बात हो गयी और क्या कुछ नहीं प्राप्त कर सकते यह भी बात हो गयी। पर अभी तक समझ नहीं आया होगा कि आखिर इस Post द्वारा क्या कहना चाहता हूँ ?



        दोस्तों इस पोस्ट का यही मकसद है कि पैसा हमारी जिंदगी में बहुत महत्वपूर्ण है और हर काम करने के लिए जरूरी भी ,लेकिन किसी को भी हर समय  पैसे कमाने का ही नहीं सोचते रहना चाहिए या फिर हर समय काम, काम और काम (work, work and always work...) ही नहीं करते रहना चाहिए ,कुछ समय हमे अपने लिए भी निकालना चाहिए जिसमे हमारी असल ख़ुशी है वह काम भी करने चाहिए। या फिर अपने दोस्तों के लिए अपने रिश्तेदारों के लिए भी समय निकालना चाहिए ,सबसे जरूरी ,हमे अपने परिवार को भी समय देना चाहिए क्योंकि वो तो हमारे बिलकुल ही अपने है ,उनके साथ भी time spend करके enjoy करना चाहिए क्योंकि अगर धन  कोई ख़ुशी ही न दे सके तो वो धन किस काम का ? 




        अगर हर समय कमाते रहकर भी हम अंदर से ख़ुशी न  प्राप्त कर सके तो उस कमाई का क्या फायदा ? अगर हम अपने परिवार को ही खुश नहीं  कर सकते तो फिर ...................  (आप समझ गए होंगे कि यहाँ पर क्या आएगा) ? 



        इसलिए दोस्तों कमाईये , खूब कमाईये ,करोड़पति बनिए या फिर अरब-खरबपति बनिए , कमाने में कोई बुराई नहीं ,लेकिन अपनी असल ख़ुशी न भूलिये ,अपने परिवार ,अपने रिश्तेदारो ,अपने साथियों को जिन्होंने इस मुकाम तक  पहुँचने में मदद की ,ऐसे लोगो को कभी न भूलिये ,इनके लिए भी भरपूर समय निकालिये क्योंकि अंत समय में माया किसी का साथ नहीं देती। तो इतनी माया कोई भी अगले जन्मों में तो लेकर जा नहीं सकता ,इतनी माया की तो बात ही क्या, कोई एक तिनका तक लेकर जा नहीं सकता और हम अहंकार करते रहते है कि यह मेरा है ,मैंने किया वगैरह वगैरह ,इसलिए माया को सिर्फ जोड़िये मत ,खर्च भी कीजिये लेकिन सिर्फ असल ख़ुशी के लिए, दिखावे के लिए नहीं । 



        असल ख़ुशी पर भी जल्द ही आप पोस्ट पढ़ेंगे 



        तो दोस्तों अब आप समझ गए होंगे कि इस Post को लिखने का क्या मकसद है। यह खासतौर से उनके लिए है जो सिर्फ  पैसे को ही अहमियत देते है और अपने परिवार और दोस्तों की कोई परवाह ही नहीं करते। ऐसे लोग इस Post को एक बार द्वारा से भी पढ़ ले और परिवार , दोस्तों की अहमियत को समझे क्योंकि परिवार प्यार ,समय और भरोसे से बनता है और दुनिया की सारी दौलत भी परिवार नहीं खरीद/बना सकती। 




        दोस्तों आपको यह Post कैसी लगी comment करके जरूर बताये और अगर आपको पसन्द  आयी तो अपने दोस्तों के साथ भी जरूर share करे। 




        Facebook Page भी जरूर like करे। 


        searchable tags
        benefits of millionair in hindi
        hum paiso se kya nahi kharid skte
        rishte kaise sudhaare
        family me pyar kaise laaye
        motivational hindi stories
        best hindi story
        article on money in  hindi
        advantages and disadvantages of money in hindi
          Share:

          2 टिप्‍पणियां:

          1. पैसों के साथ साथ इन्सान को हर चीज को हर रिश्ते को भी अहमियत देनी चाहिए .....nice article

            उत्तर देंहटाएं
          2. पैसों से जिन्दगी बेहतर होती है । अगर पैसे के साथ साथ हम सभी चीजों जैसे कि प्यार,विश्वास, सम्मान, आदि को भी अहमियत देते है तो जिन्दगी बेहतर नही बल्कि बेहतरीन हो जाती है । उम्दा लेख ।

            उत्तर देंहटाएं