शनिवार, 18 मार्च 2017

तेरी किरपा से ही तो चलती है मेरी जिंदगी.... (Teri Kirpa Se Hi To Chalti Hai Meri Zindagi....)

दोस्तों आज मैं आप सभी के साथ पहली बार अपने साथ recently बीती या फिर यूं कहें मेरे साथ न बीती घटना share करने जा रहा हूँ। इस story को पढ़कर आप सभी यह भी समझ जाएंगे की mostly मैं सभी stories ईश्वर या कर्मों से related ही क्यों लिखता हूँ।






बात 9 March, 2017 की है, जब मुझे मेरी life की first income मिली (mobile me account me add hone ka message aaya tha), तब मैं कितना खुश हुआ बता नहीं सकता..... उस समय मैं coaching class में था जो मैंने recently ही join की है।



वहां से वापसी करते वक्त भी मैं बहुत खुश था और ख़ुशी-ख़ुशी में bike भी शायद थोड़ी speed में थी.... और साथ ही साथ मुँह में भजन गुनगुनाता हुआ आ रहा था।



"तेरी किरपा से ही तो चलती है मेरी जिंदगी,
हे भोले जी, अपनी किरपा यूं ही बनाये रखना......"



ख़ुशी ख़ुशी में शायद मैंने traffic का इतना ध्यान नहीं दिया और overtake करते वक्त जब एकदम से पीछे को देखा कि कोई गाड़ी तो नहीं आ रही न, तभी एकदम से मेरी से आगे वाली गाड़ी ने break लगा दी और उस समय मेरी speed इतनी थी कि आगे को गाड़ी से जितना distance था, वो मुझे लगा ही नहीं कि एकदम से break लगेगी। लेकिन जैसा कि मैंने कहा कि मैं भजन गुनगुनाता हुआ आ रहा था, तो आधे second (या फिर एक सेकंड ) से भी कम समय में एकदम से अपने आप मुझसे bike की break लग गयी और बाइक का balance भी नहीं बिगड़ा और मैं बच गया।
(बाइक Pulsar 180, Front disc break जब एकदम से लगाये balance नही बनता)



मुझे नहीं मालूम क्या हुआ..... एकदम से कैसे ब्रेक लग गयी, क्योंकि अगर इतनी तेज ब्रेक लगाऊं तो बाइक मुझसे slip हो जाती है लेकिन उस समय बिलकुल minor सी slip हुयी और balance proper बना रहा।



दोस्तों, अपने साथ बीती यह बात आप सभी से इसलिये ही share कर रहा हूँ कि ईश्वर की कृपा को सभी जान और समझ सके। मैं अपने बारे में कुछ नहीं कहता, सिर्फ इतना कहता हूँ कि भक्ति जब दिल से होती है तो भगवान हमेशा हमारे साथ ही रहते है, कहते भी है न कि " भक्त के वश में है भगवान"। भगवान तो सदैव भक्त के साथ ही है ,सिर्फ हमे दिल में उन्हें जगह देनी आनी चाहिए।



लेकिन फिर भी कई बार मैं और बहुत से लोग, भगवान को दिल में जगह देकर भी कई बार निकाल देते है और उन्हें भूल जाते है, पर इसपर भी एक बात......



"मैं और मेरे भोले जी बहुत ही भुलक्कड़ है,
मैं उन्हें याद करना भूल जाता हूँ और वो मेरी गलतियों को याद करना भूल जाते है।"






दोस्तों, मैं जानता हूँ, बाइक चलाते वक्त थोड़ी-बहुत या फिर थोड़ी-ज्यादा ही ;) मेरो गलती थी..... लेकिन भोले जी की किरपा से मुझे कुछ भी नहीं हुआ और मैं वैसे का वैसे ही हूँ।


यह भी पढ़े :
ईश्वर से मुलाक़ात (Met With God)
Share:

3 टिप्‍पणियां:

  1. ईश्वर की कृपा के बिना कुछ भी संभव नही है । हमे खुद पर विश्वास तभी होगा जब हमें ईश्वर पर विश्वास होगा । Very good post. Thanks for sharing.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही शानदार पोस्ट है। बहुत पसंद आई। ईश्वरीय शक्ति की मदत के बिना इंसान कुछ नहीं कर सकता।

    उत्तर देंहटाएं