गुस्सा माचिस की तिल्ली की तरह है

Gussa Machis Ki Tilli Ki Tarah Hai

गुस्सा करने से हमारा अपना ही नुक्सान होता है।

जैसे माचिस की तिल्ली पहले स्वयं जलती है
और उसके बाद किसी अन्य वस्तु को जलाती है ।
ठीक वैसे ही हमारा क्रोध है ,
हमारा क्रोध पहले हमे जलाएगा
और फिर किसी दूसरे को हानि पहुंचाएगा ।

क्रोध करने से सभी को हानि ही होगी ,फायदा किसी को भी नहीं मिलना ।
इसलिए जितना हो सके क्रोध करने से बचना चाहिए ।


गुस्सा करने से होने वाले लाभ जानने के लिए यहां क्लिक करे

अगर आप ज्ञानपूंजी की तरफ से रोजाना प्रेरणादायक विचार अपने व्हाट्सप्प पर प्राप्त करना चाहते है तो 9803282900 पर अपना नाम और शहर लिखकर व्हाट्सप्प मैसेज करे.

Spread the love

1 thought on “गुस्सा माचिस की तिल्ली की तरह है”

Leave a Comment