सोचा था किताबें पढ़-पढ़ कर सब सीख जाऊंगा

Kitaabein Padhkar Sab Seekh Jaunga

सोचा था किताबें पढ़-पढ़ कर सब सीख जाऊंगा,
इसी सोच में हजारों किताबें पढ़ डाली,

लेकिन जब आया इस दुनियादारी में,
तो किताबों का एक पन्ना भी न आया काम,

जो जो पढ़ा था पन्नो से,
वह न आया किसी भी काम,

सिखाया जो सबक जिंदगी ने
उसकी तो थी कुछ अलग ही लिखावट।

दोस्तों, जिंदगी में चाहे जितना मर्जी पढ़-लिख ले,चाहे हज़ारो किताबों का ही ज्ञान क्यों न अर्जित कर ले,लेकिन एक बात हमेशा याद रखना जिंदगी जो सबक सिखाती है, वह न तो किसी किताब में लिखा गया है और न ही लिखा जा सकता है । और जब तक जिंदगी से सबक न सीख जाओ तब तक जिंदगी जीना नही सीख सकते

अगर आप ज्ञानपूंजी की तरफ से रोजाना प्रेरणादायक विचार अपने व्हाट्सप्प पर प्राप्त करना चाहते है तो 9803282900 पर अपना नाम और शहर लिखकर व्हाट्सप्प मैसेज करे.

Spread the love

Leave a Comment