जिसने सबको बनाया है, सिर्फ वही अपने आप को जानता है

नानक वडा आखिअै आपे जाणै आपु

जिसको इस जगत में सबसे बड़ा कहा जाता है, सिर्फ वही अपने आप को जानता है.

इन शब्दों से भाव यह है कि, नानक जी इसमें कहते है, जिस परमात्मा का नाम हम लेते है, जिसका हम सुमिरन करते है, जिसके हम गुणों को गाते है, असल में उसे उन्हें बिलकुल भी नहीं जानते है. यानी कि हम उनके गुणों का व्याख्यान तो करते है लेकिन हम उन निर्गुण के गुणों को कैसे गा सकते है? क्यूंकि उनके गुणों को गाने कि हमारे पास तो समझ ही नहीं है. उनके गुण अनगिनत है, हम शब्दों द्वारा उनके गुण नहीं गा सकते, लेकिन हम सिर्फ कोशिश मात्र करते है, उनको गुणों को गाने की.

इस संपूर्ण संसार में सिर्फ वही परमात्मा स्वयं ही है जो स्वयं को जानते है.

अगर आप ज्ञानपूंजी की तरफ से रोजाना प्रेरणादायक विचार अपने व्हाट्सप्प पर प्राप्त करना चाहते है तो 9803282900 पर अपना नाम और शहर लिखकर व्हाट्सप्प मैसेज करे.

Spread the love

2 thoughts on “जिसने सबको बनाया है, सिर्फ वही अपने आप को जानता है”

Leave a Comment