सद्गुणों की महक

Sadguno Ki Mehak

फूलो की महक तो सिर्फ उसी तरफ फैलती है
जिस तरफ हवा का बहाव हो

लेकिन एक अच्छे व्यक्ति के सद्गुणों की महक
हर तरफ फैलती है, वो भी बिना हवा के ।

इसलिए अच्छे बनिये और सद्कर्म करते रहिये क्यूंकि मनुष्य के सद्कर्मो की महक की बात ही कुछ अलग है । मनुष्य अपने रंग-रूप से नही बल्कि अपने व्यवहार और कर्मो से जाना जाता है।

अगर आप ज्ञानपूंजी की तरफ से रोजाना प्रेरणादायक विचार अपने व्हाट्सप्प पर प्राप्त करना चाहते है तो 9803282900 पर अपना नाम और शहर लिखकर व्हाट्सप्प मैसेज करे.

Spread the love

1 thought on “सद्गुणों की महक”

Leave a Comment