छोटा विकार ,बड़ी हानि

Vikaro Se Bache


दोस्तों आपने यह तो सुना ही होगा कि मनुष्य में विकार छोटे-से-छोटा भी नही होना चाहिए क्योंकि यह हमें पतन के रास्ते पर ले चलता है। लेकिन क्या सच मे सिर्फ एक बुरी सोच की वजह से भी हमारा पतन हो सकता है?
तो दोस्तों इसका जवाब हां है, विकार (बुरी सोच) कैसे भी क्यों न हो, किसी भी व्यक्ति की बुद्धि नष्ट करने के लिए काफी है।

जैसे बड़ा जहाज एक नन्हे पंक्षी से टकराकर गिर जाता है ,

जिस प्रकार एक नन्ही-सी चींटी बाहुबली हाथी को क्षति पहुंचा देती है,

उसी प्रकार ही विकार कैसा ही क्यों न हो,

महान से महान व्यक्ति के व्यक्तित्व को भी गिरा सकता है।

इसलिए हमेशा विकारो से दूर ही रहे, चाहे कोई छोटी- सी बुरी आदत ही क्यों न हो, बुराई का सर्वदा त्याग करे।

 


Also Read This : सबसे बड़े दो दुश्मन (Two Biggest Enemies)

Also Read This : तरीका बदलिए, इरादे नही

Also Read This : गुस्सा करने से अपनी ही हानि होती है

Also Read This : बुरे वक्त में ही अपने और पराये की पहचान होती है

Also Read This : जिंदगी में सच्ची बातें


 

अगर आप ज्ञानपूंजी की तरफ से रोजाना प्रेरणादायक विचार अपने व्हाट्सप्प पर प्राप्त करना चाहते है तो 9803282900 पर अपना नाम और शहर लिखकर व्हाट्सप्प मैसेज करे.

Spread the love

3 thoughts on “छोटा विकार ,बड़ी हानि”

  1. Bahut achhi post .
    छोटी सोच और पैर की मोच व्यक्ति को कभी आगे नही बढने देती।

    Reply
  2. Hello friends
    आप कौनसी होस्टिंग उपयोग करते है। और सालाना कितना खर्चा आता है ?

    Reply
    • इस ब्लॉग पर Bluehost से hosting है और वही से domain खरीदा।
      1st time purchase offer में यह 2800 के करीब पड़ा with domain and hosting।

      Reply

Leave a Comment