ज़िन्दगी की सच्ची बातें

Zindagi Ki Sachhi Baatein

ज़िन्दगी कभी ख़ुशी और कभी गम की तरह है, इसमें इतने उतार चड़ाव है कि जिसे बयाँ नही किया जा सकता. ज़िन्दगी के सफ़र में  कभी कुछ अच्छी बातें तो कभी कुछ बुरी बातें, कभी अच्छे लोग मिलते है तो कभी बुरे लोग भी मिल ही जाया करते है, जो अच्छा है उसके लिए तो सब अच्छे ही है लेकिन फिर भी कोई किसी दुसरे के मन के भावों को थोड़े-ही न समझ सकता है ? तो ज़िन्दगी की कुछ बातों को लेकर आज हम आपके साथ ज़िन्दगी की कुछ अच्छी और सच्ची बातें सांझा कर रहे है (Zindagi Ki Sachhi Baatein) .


अच्छे लोग किसी के मुँह से तारीफ सुनने के मोहताज नही होते
क्योंकि असली फूलों पर कभी भी इत्र नही छिड़का जाता।


सिर्फ दूसरों को ही समझने से कुछ नही होने वाला
स्वयं को भी समझ लेना चाहिए।


हम इंसानों की भी कैसी अजीब सोच है,
हम सोचते है कि उड़ने को पंख मिले
लेकिन उड़ने वाले पक्षी सोचते है कि
रहने को छत मिले।


देने के लिए दान
लेने के लिए ज्ञान
और त्यागने के लिए गुमान
सबसे बढ़िया है।


अगर बनना है बाकियों से अलग
तो जिस समय भले ही पूरी दुनिया
आराम कर रही हो
आप अपने काम को बेहतर
करने के लिए जागते रहिये।


तो दोस्तों ज्ञान पूंजी डॉट कॉम की यह रचना आपको कैसी लगी हमे कमेंट करके जरुर बताएं, आगे भी ऐसी ही रचनायों के लिए ज्ञान पूंजी पढ़ते और शेयर करते रहना न भूले. आपका शेयर हमारा उत्साह बढाता है.

अगर आप ज्ञानपूंजी की तरफ से रोजाना प्रेरणादायक विचार अपने व्हाट्सप्प पर प्राप्त करना चाहते है तो 9803282900 पर अपना नाम और शहर लिखकर व्हाट्सप्प मैसेज करे.

Spread the love