गुरुवार, 2 मार्च 2017

बुरे वक्त में भी किसी के सामने झुकना नहीं चाहिए (Never Beg)

हम सभी का ही जीवन कठिनाईयों से भरा पड़ा है। किसी के जीवन में अधिक मुश्किलें होती है तो किसी के जीवन में कुछ कम। लेकिन ऐसा कोई नहीं जिसे मुश्किलों का सामना न करना पड़ा हो।



लेकिन यह जरूरी ही है कि अगर किसी के पास अच्छे समय के बाद , कभी बुरा वक्त आ भी जाए तो वह बुरा वक्त जल्द ही तल जाएगा। हम सभी जानते है कि मुश्किलें और शोहरत दोनों में से कुछ नहीं टिकने वाला। अगर आज किसी के पास धन-दौलत है तो ऐसा भी हो सकता है कि कल उसके पास न हो और उसके बाद फिर से वह मेहनत करके अपना अच्छा वक्त वापस ला सकता है।






लेकिन इस समय में एक बात ध्यान रखने वाली है ,भले ही बुरा वक्त अगर कभी आ भी जाए तो भी हमे जीवन में हार नहीं माननी चाहिए और न ही किसी के सामने झुकना चाहिए या किसी अन्य से मदद मांगनी चाहिए क्योंकि बुरा वक्त तो कुछ समय के लिए आता है लेकिन अगर हम किसी के सामने झुककर उससे भीख मांगने लग जाए तो वह जीवन भर का बोझ ही बनकर रह जाता है।  चाहे व्यक्ति बाद में फिर से ऊँचे मुकाम पर भी आ जाए ,लेकिन एक बार की भीख पूरी जिंदगी की भीख बन जाती है ,खास तौर पर तब ,जब होंसलो में दम हो और मेहनत करने की पूरी लगन क्योंकि जिसमे कुछ कर जाने का जज्बा होता है वह अवश्य ही फिर से अपना अच्छा समय वापस ला सकता है ,लेकिन अगर वह किसी के सामने झुककर उससे भीख मांगे कि मेरी मदद कर दो तो वह पुरे जीवन के लिए श्राप बनकर रह जाएगा। क्योंकि जिससे हमे माँगना पड़े ,वह तो हमारा अपना हो ही नहीं सकता और फिर बाद में सभी को कहता फिरेगा कि "उस समय में मैंने इस व्यक्ति की मदद की थी , आज यह जो भी है सिर्फ मेरी वजह से।" और अगर हम अपनों की बात करे तो हमे कभी भी अपनों से माँगना नहीं पड़ता। अगर कोई सच में किसी का सच्चा दोस्त या मददगार है तो वह अपने आप मुश्किल में पड़े अपने साथी की सहायता करेगा। इसीलिए जिसके होंसले बुलंद हो उसे मुश्किल समय में भी किसी के सामने झुककर भीख नहीं मांगनी चाहिए। तभी तो कबीर जी भी कह गए कि



माँगन मरण समान ,मति मांगो कोई भीख। 
माँगन ते मरना भला ,यह सतगुरु की सीख।।



अर्थ : माँगना मरने के समान है ,कभी भी किसी से भीख नहीं मांगनी चाहिए। मागने से भला तो मर जाना चाहिए ,यही सच्चे गुरु कहते है।



भाव : कबीर जी कहते है कि किसी से कभी भी भीख नहीं मांगनी चाहिए। भीख मांगने से अच्छा तो मर जाना ही है। ऐसा कबीर जी ने इसलिए कहा ताकि मनुष्य सिर्फ पुरुषार्थ करे ,कर्म करे ,मेहनत करे ,लेकिन कभी भी किसी से कुछ मांगे न। क्योंकि अगर एक बार किसी से कुछ मांग लिया तो वह व्यक्ति देने वाले का दास बनकर रह जाता है। और बाद में अगर कभी वह ऊँचे  मुकाम पर पहुँच भी जाए तब भी वह उसके सामने झुका ही रहता है जिसने पहले भीख में कुछ दिया था। इसलिए कभी भी भीख नहीं मांगनी चाहिए बल्कि मेहनत करके ,अपना कमाकर खाना चाहिए।



दोस्तों ,इसमें भीख शब्द का अर्थ सिर्फ हर किसी से मांगने से ही नहीं है। बल्कि अगर हम पर कभी कोई विपत्ति आ भी जाए तो उस समय में किसी भी उस व्यक्ति के सामने न झुकने से है जो भी विपत्ति के समय में मदद करने को ऐसे बतलाये जैसे वह कोई बहुत बड़ा एहसान कर रहा हो। याद रखिये बुरा वक्त हर एक का कभी-न-कभी आता ही है और बाद में अच्छा समय फिर से आ जायेगा ,लेकिन अगर इस बुरे वक्त में किसी के सामने झुक गए और वो भी उसके सामने जो जिंदगी भर सुनाता रहे तो इससे बेहतर तो मर जाना ही है। लेकिन फिर भी मरना क्यों ? मेहनत करो और फिर से अपनी सफलता वापस ले आओ लेकिन कभी भी की के सामने झुको मत।



क्योंकि माँगना तो सिर्फ एक या दो बार का होगा 
लेकिन झुकना जीवन भर का बन जाएगा। 



इसलिए समय चाहे जैसा भी हो ,हम सभी को धीरज और अपने आप पर भरोसा रखना चाहिए। जो मेहनत करते है और जिन्हें अपने आप पर विश्वास है वह एक बात हमेशा याद रखे अगर अच्छे समय के बाद बुरा से आया है तो उस बुरे वक्त के बाद अच्छा वक्त भी जरूर आएगा।



दोस्तों आपको यह आर्टिकल कैसा लगा ,comment करके हमे जरूर बताये। अगर पसन्द आया तो अपने दोस्तों के साथ Facebook ,Whatsapp Message ,Google Plus आदि पर share करना न भूले।



नोट : नयी पोस्ट E-Mail द्वारा प्राप्त करने के लिए subscription लेना न भूले। 



अन्य articles जो आपको पसंद आएंगे -
हम क्या लेकर आये थे और क्या लेकर जाएंगे ? (What We Will Carry With Us When We Go)
 
Share:

8 टिप्‍पणियां:

  1. बिल्कुल सही बात है निखिल जी। हम मांगते सिर्फ़ एक बार है लेकिन इससे हमें जिंदगी भर छुकना पड़ता है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सटीक लेख निखिल जी। मनुष्य के अंदर स्वाभिमान का जिन्दा रहना बहुत ही आवश्यक है। इंसान अपनी मौत तो एक बार ही मरता है लेकिन यदि उसका स्वाभिमान ही मर गया तो वह जब तक जिन्दा है तब तक मरता ही रहता है। :)

    Thanks,
    HindIndia

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही अच्‍छी बात कही आपने कि हमें बुरे वक्‍त में भी नहीं झुकना चाहिए। अक्‍सर हम यह बात भूल जाते हैं और लोगों के सामने गिड़गिड़ाने लगते हैं। लेकिन आपकी यह शानदार पोस्‍ट लोगों का अच्‍छा मोटीवेशन करने में कामयाब होगी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन ’झूठ के लिए सच को दबाने का शोर - ब्लॉग बुलेटिन’ में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  5. Nice article thank you for sharing keep visiting on https://kahanikikitab.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपने बिल्कुल सही बात कहा बुरे वक्त में भी हमे हार नहीं मानना चहिए । परिस्थितिया हमेशा एक समान नही रहती । झुकने की वजाय हमें हौसला रखना चाहिए । अगर मन में हौसला हो तो जिन्दगी कभी भी कही भी शुरू की जा सकती है ।Thanks for sharing such a great article.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बुरे वक्त में ही इन्सान की असल परीक्षा होती है और जो इन्सान बुरे वक्त से लड़ना जान गया वो दुनिया की कोई भी बुरी ताकत का सामना कर सकता है . बढ़िया पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं